समर्थक

शनिवार, 8 अक्तूबर 2011

बीवी बच्चों की याद

फाटक बाबू के घर आया मेहमान जाने का नाम नहीं ले रहा था। वो जाए कैसे फाटक बाबू को कोई तरकीब सूझ ही नहीं रही थी।

एक दिन तंग आकर फाटक बाबू उससे बोले, “आपको अपने बीवी बच्चों की याद नहीं आती?”

मेहमान ने मुस्कुराते हुए कहा, “सच, फाटक बाबू बहुत याद आती है। कहिए तो बुला लूं सबको।”

15 टिप्‍पणियां:

  1. ये तो मेहमान भगाने का सबसे खतरनाक तरीका है कुछ और उपाय करना होगा |

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऐसों की मेहमाननवाज़ी का मौका खुले हुए फाटक बाबू को ही मिलता है. बढ़िया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा हा हा ……फ़ाटक बाबू मेहमान से निज़ात पा घर का फ़ाटक बंद करना चाह रहे थे उन्हे क्या पता था नहले पे दहला मारने वाल मेहमान है……हा हा हा हा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अथिति तुम कब जाओगे ? एक शाश्वत प्रश्न है........एक गंभीर समस्या है !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. अहा!
    फाटक बाबू अब क्या करेंगे?

    उत्तर देंहटाएं
  6. kya bat hai chhoti si baat badi si fuhaar

    madhu tripathiMM
    http://kavyachitra.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं