समर्थक

गुरुवार, 1 सितंबर 2011

गिरफ़्तारी

वह घबराया हुआ थाने पहुंचा और थानेदार से बोला, “मुझे गिरफ़्तार कर लीजिए इंस्पेक्टर साहब! मैंने अपनी पत्नी के सिर पर डंडा मारा है।”

इंस्पेक्टर ने कोई एक्शन लेने से पहले तफ़्तीश करना ज़रूरी समझा, “तो क्या वह मर गई?”

उसने जवाब दिया, “नहीं, वह डंडा लेकर मेरे पीछे आ रही है।”

10 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसे ही थोड़े थाने की तरफ़ भागते आ रहे हैं साहब!

    उत्तर देंहटाएं
  2. डंडा खा कर जिसे कुछ नहीं हुआ उसी के हाथ में डंडा आ गया. खतरनाक चुटकुला :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह...मरी नहीं बल्कि मारने आ रही है! बहुत अच्छे!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया. उम्दा प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं