समर्थक

शुक्रवार, 11 नवंबर 2011

सबूत

जज : क्या सबूत है कि तुम गाड़ी स्पीड में नहीं चला रहे थे।

खदेरन : माई-बाप! मैं फुलमतिया जी को लाने ससुराल जा रहा था।

 

एक गम्भीर दृष्टि खदेरन पर डालते हुए जज ने फैसला सुनाया :

परिस्थिति-जन्य साक्ष्य के आधार पर अभियुक्त पर लगाया गया इलज़ाम साबित नहीं होता इसलिए केस डिसमिस!

14 टिप्‍पणियां:

  1. हाँ, छोड़ने जाता तो स्पीड चला भी सकता था। हा... हा... हा... !

    उत्तर देंहटाएं
  2. :) वाकई छोड़ जाता तो स्पीड में हो भी सकता था बढ़िया प्रस्तुती
    समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर. बधाई.


    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें, अपनी प्रतिक्रया दें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. संभव ही नहीं है .. ऐसे हालात में तेज गाडी चलाना

    उत्तर देंहटाएं