समर्थक

शनिवार, 26 फ़रवरी 2011

मुझे भी बताओ ना!

खदेरन बड़ी तन्मयता से कुछ सोचे जा रहा था और मन्द-मन्द मुस्कुरा रहा था।

फुलमतिया जी ने पूछा, “क्या सोचे जा रहे हो, मुझे भी बताओ ना!”

खदेरन ने कहा, “एक बात याद आ गई। एक विद्वान ने लिखा है कि मूर्ख आदमी की पत्नी खूबसूरत होती है।”

फुलमतिया जी यह सुन इतराती हुई बोलीं, “बस! रहने भी दो!! लगता है मेरी तारीफ़ करने के अलावा तुम्हारे पास कोई और काम है ही नहीं!!!”

11 टिप्‍पणियां:

  1. अति सुन्दर, आनन्ददायी चुट्कुला....हा....हा....हा......sss...sss...sss
    =======================
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी
    सचलभाष- 09336089753

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब अपनी प्रशंसा सुनकर इतनी प्रतिक्रिया तो होनी ही है ना.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मज़ेदार! मज़ेदार! मज़ेदार! मज़ेदार! मज़ेदार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. हा आह ..बढ़िया अंदाज़ ...आज कुछ खास है

    उत्तर देंहटाएं