समर्थक

मंगलवार, 23 फ़रवरी 2010

कल रात नींद में

कल रात नींद में

श्रीमती जी : सुनो जी कल रात नींद में तुम मुझ पर काफी चिल्ला रहे थे।

श्रीमान जी : हूँ, चिल्ला रहा था ?

श्रीमती जी : हां। यहां तक कि गालियां भी दे रहे थे।

श्रीमान जी : यह तुम्हारी ग़लतफहमी है।

श्रीमती जी : कैसी ग़लतफहमी ?

श्रीमान जी : यही कि मैं नींद में था।

***********************************

अगर पसंद आया तो ठहाका लगाइगा

***********************************

19 टिप्‍पणियां:

  1. तुम्हारी ग़लतफ़हमी कि मैं नींद में था ...हा हा हा ....
    दाद देनी चाहिए उसके साहस को ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा हा!! बढ़िया तरीका मिला!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाहाहाहाहा हर बार कि तरह इस बार भी लाजवाब ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ha ha ha ha ............
    badee himmat dikhadee sach kah kar...............

    उत्तर देंहटाएं
  5. हाहाहाहाहा हर बार कि तरह इस बार भी लाजवाब ।
    hahahahahahahahahaah
    hahahahahahahaahahaaa

    उत्तर देंहटाएं
  6. हा हा हा हा हा हा हा...क्या बात कही..... मज़ा आ गया....

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह! खूब हिम्मत जुटाई सच बोलने की .
    हा हा हा ...........!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सविता जी, आदाब
    ये बहुत खूब रहा....मज़ा आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हा हा हा । मानना पड़ेगा श्रीमानजी की हिम्मत को । बहुत खूब ।

    उत्तर देंहटाएं