समर्थक

शनिवार, 7 अगस्त 2010

ब्रेक फेल

हंसना ज़रूरी है, क्यूंकि …


हंसने से श्‍वसन नली में होने वाले इंफेक्शन से बचाव करने वाले एंटीबॉडी इम्यूनोग्लोब्यूलिन ए की मात्रा में वृद्धि होती है।

ब्रेक फेल

बहुत पहले की बात है ….

खदेरन ने फुलमतिया जी के मां बनने की खबर सुनकर झटपट घर पहुंचने की जल्‍दी में टैक्‍सी कर ली।

टैक्‍सी तेज रफ्तार में जा रही थी। रास्‍ते में टैक्‍सी वाले ने घोषण की, “साहब टैक्‍सी के ब्रेक फेल हो गए, क्‍या करूँ?”

खदेरन ने झट से जवाब दिया, “जो करना हो सो बाद में करना, पहले मीटर तो बंद कर।”

20 टिप्‍पणियां:

  1. हीहीहीहीहही दिन की शुरआत हंसी से ........हाहाहाहहा

    उत्तर देंहटाएं
  2. .हाहाहाहहा
    .हाहाहाहहा
    .हाहाहाहहा

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये हुई ना समझदारो वाली बात .......हा हा हा हा हा !!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके ब्लाग पर आते ही ठहाका लगाता हूं----पत्नी,बच्चे पूछते हैं क्या हुआ? फ़िर सब ठहाके लगाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अति सुन्दर.........
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  6. aapki post itani majedar hoti hai ki dukhi isaan bhi hansane par vivash ho jaaye.aapne apne blog
    ka naam bahut sahi chun kar rakkha hai.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं