समर्थक

शुक्रवार, 20 अगस्त 2010

आज सिर्फ़ एक चित्र…

आज सिर्फ़ एक चित्र…


ये ई-मेल से प्राप्त हुआ। सोचा आपसे शेयर कर लूं।


बताइए इस चित्र का शीर्षक क्या हो? …. शीर्षक ऐसा हो जिससे हास्य का सृजन हो…

ATT2162079
एक शीर्षक तो मैं ही दे रही हूं …

चियर्स…!!

16 टिप्‍पणियां:

  1. देखा..!
    अभी न टूट जाता ...!
    हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर प्रस्तुति!
    राष्ट्रीय व्यवहार में हिन्दी को काम में लाना देश की शीघ्र उन्नति के लिए आवश्यक है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. फिअर्स........ !!! हा.. हा... हा... हा... हा.... !!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. शीर्षक:- Tum bhi pagal....Hum bhi pagal...theek rahegaa.

    उत्तर देंहटाएं
  5. शीर्षक की बात बाद में..

    पहले तो हम ये करते कि लड़की वाला जाम खुद हथिया लेते...और अपना टूटा जाम उसे चेप देते..

    उत्तर देंहटाएं
  6. जाम फूटा।
    हा.. हा... हा... हा... हा.... !

    उत्तर देंहटाएं
  7. धत्त तेरे कि!
    हा.. हा... हा... हा... हा.... !

    उत्तर देंहटाएं
  8. चित्र भी खूब ढूढ़ कर लाया आपने...बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं