समर्थक

बुधवार, 19 मई 2010

जनता का दर्द : गाय की जुबानी

कई दिनों बाद दो गायों को चारा मिल गया !
उन दोनों का चेहरा खिल गया !!
एक-दूसरे से बोली- बहन जल्दी-जल्दी चर ले !
कहीं कोई नेता अपना पेट न भर ले!
**************************************************
अगर पसंद आया तो दिल खोलकर ठहाका लगाइएगा।
**************************************************

19 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ! चुटीला व्यंग !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर कटाक्ष.
    वाह

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. संक्षिप्तता ही कला है........कुछ ही शब्दों के माध्यम से वर्तमान राजनीतिक विसंगति पर करारा व्यंग्य,,,,,,,,,,,,,साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कहीं कोई नेता अपना पेट न भर ले.......... बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  6. चारा चोरों को सीधा वोल्ड कर दिया

    उत्तर देंहटाएं