समर्थक

मंगलवार, 25 मई 2010

सब्र करो, धीरज धरो

 

सब्र करो, धीरज धरो

आराम के दो पलबस की ज़ोर दार एक्सीडेंट हो गई।

एक आदमी रोते हुए बोल रहा था – “हे भगवान ….. मेरा हाथ टूट गया है।”

पास खड़ा आदमी बोला --- “सब्र करो, धीरज धरो – उस आदमी को देखो, वो मर चुका है, फिर भी चुपचाप है।”

13 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा!! सब्र की इंतहा हो गई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. लोग इतना परेशान क्यों होते हैं....धीरज धरना ही चाहिए....हीहीहीहीहीहीहीही

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक सर्वश्रेष्ठ उदाहरण दिया जी धीरज धरने का.....

    हंस रहे है सब,,,

    कुछ सीखो.......

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाकई सबक लेने वाली बात है
    हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमसे धीरज नहीं धरते बन रहा हँसी पर……
    :)
    :)))))))))

    उत्तर देंहटाएं
  6. गज़ब ..शानदार ....हंसी आ गयी हा हा हा हे हे हे ही ही ही .....आ रही है ..कब रुकेगी ...शायद तभी जब ....दुसरे वाले ki रुकी थी जो चुपचाप है :)

    उत्तर देंहटाएं