समर्थक

सोमवार, 7 जून 2010

मास्को को चीन की राजधानी

मास्को चीन की राजधानी

 

खदेरन का बेटा भगावन जोर जोर से भगवान से प्रार्थना कर रहा था,

“हे भगवान! मास्को को चीन की राजधानी बना दो।”

खदेरन ने जब यह सुना तो वह बोला,

“बेटा भगावन यह क्या अनाप शनाप प्रार्थना कर रहे हो?”

भगावन ने जवाब दिया,

“क्या बताऊं पापा आज भूगोल के पेपर में मैंने गलती से मास्को को चीन की राजधानी लिख दिया है।”

14 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छा है , जिस तरह से आपने प्रस्तुत किया

    उत्तर देंहटाएं
  2. हे भगवान! मास्को को चीन की राजधानी बना दो।”
    majedarrrrrrr

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा हा हा हा ……………। भाई सब भगवान के हाथ ही तो है। पढ्ना लिखना, करने से क्या फायदा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. छोटा सा ही तो काम था...कर देना चाहिए था भगवान को

    उत्तर देंहटाएं
  5. पास होने के लिए जरुरी प्रार्थना.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. आखिर कितनी बार बनवाये भगवान् ?... अभी पिछली क्लास में भी म्यांमार की राजधानी इम्फाल बनाई थी!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. हा हा हा हा ... सच है भगवान सब कुछ कर सकता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. यही तो ...इतना सा काम नहीं कर सकते भगवान ....हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं