समर्थक

शनिवार, 26 जून 2010

देर से घर

देर से घर

 

दोस्तों के बीच अपनी-अपनी श्रीमतीजी को लेकर बात-चीत चल रही थी। अब बहस छिड़ गई कि अगर अगर देर से घर जाते हो तो क्या बहाने बनाते हो? कहते हो? सब अपना-अपना फार्मूला सुझा रहे थे।

 

फाटक बाबू ने अपनी हक़ीक़त बयान कर दी, “मुझे कुछ कहने की नौबत ही कहां आती है। सब कुछ तो श्रीमतीजी ही कह देती हैं।

9 टिप्‍पणियां:

  1. अपना फार्मूला भी तो यही है

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक शे'र याद आया...


    कि..


    सुबह उसकी शक्ल पे चस्पां थे बीवी के हुनर..
    रात घर पर देर से था जो गया पीने के बाद...

    हा हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं