समर्थक

शुक्रवार, 11 जून 2010

एक अच्छा शीशा

एक अच्छा शीशा

बॉस ने फाटक बाबू को आदेश दिया,

“एक अच्छा शीशा लेकर आओ जिसमें मेरा चेहरा दिखाई दे।”

फाटक बाबू बोले,

“जी सर।”

थोड़ी देर बाद फाटक बाबू को खाली हाथ लौटा देख बॉस ने पूछा,

“क्या हुआ?”

फाटक बाबू ने बताया,

“मैं सब दुकानों पर देख आया। सब में मेरा चेहरा ही दीख रहा है।”

16 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा हा हा हा हा ...फाटक बाबू.... बहुत इंटेलिजेंट हैं.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब..बड़ा समझदार नौकर था..मजेदार

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा हा हा हा अब दुकान मे वो कहां से बाँस का चेहरा देखे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Your blog is cool. To gain more visitors to your blog submit your posts at hi.indli.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब..बड़ा समझदार नौकर था..मजेदार

    उत्तर देंहटाएं
  6. हा हा हा
    हा हा हा
    हा हा हा
    हा हा हा हा हा हा हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  7. देश भी यही चला रहे हैं....आजकल हर कोई खुश दिखाई दे रहा है दिल्ली सरकार को...

    उत्तर देंहटाएं