समर्थक

शुक्रवार, 18 जून 2010

आदम और इव

आदम : इव डार्लिंग ! तुम मुझ से सचमुच बहुत प्यार करती हो न ?
इव : पता नहीं... !
आदम : क्या पता नहीं ? प्यार नहीं करती हो तो शादी क्यूँ की मुझ से... ?
इव : हेल्लो... ! बोल तो ऐसे रहे हो जैसे मेरे सामने और भी कोई ऑप्शन था... !!
ही... ! ही... ! ही... ! ही... ! हे... ! हे... ! हे... ! हे.... !!
और युग बीत गए मगर आदमी की यह गलतफहमी दूर नहीं हुई।
हा... हा... हा... हा.... !!!
अगर पसंद आया तो दिल खोलकर ठहाका लगाइएगा।

11 टिप्‍पणियां:

  1. और फिर इस आप्शन के अलावा अब तो नया आप्शन आ ही गया है.
    मजेदार

    उत्तर देंहटाएं
  2. और फिर इस आप्शन के अलावा अब तो नया आप्शन आ ही गया है............
    मजेदार.......

    उत्तर देंहटाएं
  3. हें ह हें...खिसियाई हँसी!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही है दोनो के पास कोई ऑप्शन नहीं था। वरना कुछ साल बाद बदल ही लेते।

    उत्तर देंहटाएं
  5. interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this site to increase visitor.Happy Blogging!!!

    उत्तर देंहटाएं