समर्थक

मंगलवार, 1 जून 2010

निशाना

निशाना

पति ने पत्नी के विरूद्ध तलाक का मुकदमा दायर कर दिया। अदालत में पेशी हुई।

जज साहब ने पति से पूछा – “बताओ क्या बात है?”

 

पति ने कहा - “ये मेरा सिर देखिए। इन्होंने आज बेलन से मार कर मेरा सिर फोड़ दिया।”

 

जज साहब ने उनकी पत्नी से पूछा – “क्या आपने इन्हें आज बेलन से मारा।”

पत्नी ने कहा,  “हां जज साहब! पर  यह काम तो मैं पिछले दस वर्षों से कर रही हूं।”

 

जज साहब ने पति से पूछा, “क्या ये जो कह रही है सही है?”

 

पति ने हामी भरी, “जी हुजूर।”

जज ने उससे पूछा, “फिर तुम आज ही क्यों आए हो?”

 

पति ने जवाब दिया, “जी! पहले इनका निशाना कच्चा था।”

12 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा....
    हे घरेलू महिला... यह कहीं आपके ही घर की कहानी तो नही थी..

    उत्तर देंहटाएं
  2. मजेदार
    @ देव कुमार झा
    भाई देव यह तो घर-घर की कहानी है

    उत्तर देंहटाएं
  3. ह हा!! अब निशाना सध गया.

    उत्तर देंहटाएं
  4. करत-करत अभ्यास ते निशाना पक्का होए।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हा हा हा हा। रोटी बनाने की मशीन के आविष्कारक धन्यवाद के पात्र हैं। नो बेलन। नो मार झेलन।

    उत्तर देंहटाएं