समर्थक

सोमवार, 6 दिसंबर 2010

माचिस

अचानक शाम को बत्ती गुल हो गई। फाटक बाबू को मोमबत्ती जलाने के लिए माचिस की दरकार थी। घर में नहीं होने के कारण खदेरन से मांगा। देखिए क्या हुआ?

“ये कैसी माचिस लाकर दिए खदेरन। एक भी तीली नहीं जल रही।”

“लेकिन फाटक बाबू मैं तो सब चेक करके लाया हूं।”

11 टिप्‍पणियां:

  1. खदेरन हर काम पर्फ़ेक्ट करता है।
    मज़ेदार!
    हा-हा-हा-...

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक दम सही. चैक करना ज़रूरी था :))

    उत्तर देंहटाएं