समर्थक

शनिवार, 2 अप्रैल 2011

कुत्ते की शादी

फुलमतिया जी ने शंका समाधान के लिए खदेरन को गुहार लगाई, "हमको ई बात समझ में नहीं आयी कि आखिर कुत्तों की शादी क्यों नहीं होती ?"

खदेरन ने समझाया, "लो कर लो बात ! अरे समझने के लिए समझदारी चाहिए। उ तो पहिले से ही कुत्ते की जिन्दगी जी रहा है। अब शादी करके क्या करेगा.... ?"

8 टिप्‍पणियां:

  1. ha ha ha ...bargain me kutiya banna............ha ha ha ......

    उत्तर देंहटाएं
  2. :):)...

    इसको पढ़ कर एक बात मन में आई ...जो लोग लिव इन रिलेशन शिप में रहते हैं वो शायद --- की ज़िंदगी जीते हैं :)

    खाली स्थान खुद भर लीजियेगा

    उत्तर देंहटाएं