समर्थक

सोमवार, 4 अप्रैल 2011

ख़्वाहिश

कक्षा में टीचर चेतावन सिंह ने कहा, “बच्चों अगर मन से प्रार्थना करें तो भगवान आपकी ख़्वाहिश ज़रूर पूरी करेगा।

भगावन ने तुरत कहा, “ये झूठ है सर! … अगर यह सच होता, तो अब तक आपका तबादला दूसरे स्कूल में हो गया होता।”

5 टिप्‍पणियां:

  1. सच और झूंठ का निर्णय कौन करे ,चेतावन या भगावन.अब जैसे आप यही बात कहें जो चेतावन ने कही और हम कहें झूंठ क्योंकि आपने हमारे ब्लॉग पर आकर कोई हास्य फुहार छोड़ी ही नहीं ,मन से प्रार्थना के बाबजूद.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच्चे मन से प्रार्थना नहीं की होगी। अगर की होगी तो भगवान ने सुनी नहीं होगी। अगर सुनी होगी तो उसके पास तबादले का समय नहीं होगा। अगर भगवान ने चाहा भी होगा तो इस टीचर ने तगड़ा जुगाड़ फिट कराके खुद को यहां बना रखा होगा। उसे हटाने की ताकत भगवान के पास भी नहीं।

    मेरा ब्लॉग देखें
    अब पढ़ें, महिलाओं ने पुरुषों के बारे में क्या कहा?

    उत्तर देंहटाएं