समर्थक

शुक्रवार, 29 अप्रैल 2011

स्कूल देर से

भगावन हांफता-हांफता स्कूल पहुंचा। कक्षा में घुसा तो देखा क्लास लग चुकी है।

टीचर गुनगुनिया ने उसे घूरते हुए पूछा, “आज स्कूल देर से आने का तुमने क्या बहाना ढ़ूंढा है?”

भगावन ने मासूमियत से जवाब दिया, “मैडम आज मैं इतनी तेज़ दौड़ कर आया हूं कि बहाना सोचने का मौक़ा ही नहीं मिला।”

12 टिप्‍पणियां:

  1. ये भी सही बहाना है |

    ये कार्टून तो सिन्चैन है मुझे और मेरी बेटी दोनों को बहुत पसंद है |

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (30.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा हा हा……………॥बेचारा इसे ही कहते है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मज़ेदार! मज़ेदार! मज़ेदार! मज़ेदार! मज़ेदार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. लिस्ट थमा देता टीचर को और कह देता जो लागू न हों उसे काट दें!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. aapka blog bahut hin achchha laga. aaj aadmi ki bahut badi jarut hansna hai. Aajka manav sabkuch hote huye bhi hansna bhool gaya hai.

    उत्तर देंहटाएं