समर्थक

शनिवार, 13 नवंबर 2010

इतनी फिक्र मत कीजिए!

इतनी फिक्र मत कीजिए!

अध्‍यापिका ने लेट से पहुंचे भगावन से कहा, “तुम लेट क्‍यों आए भगावन? स्‍कूल तो 7 बजे ही शुरू हो जाता है। फिर इतनी देर क्‍यों की?”

भगावन ने कहा, “मैम! आप मेरी इतनी फिक्र मत किया कीजिए। लोग गलत समझते हैं।”

13 टिप्‍पणियां:

  1. पगली मैम समझती ही नहीं :))

    उत्तर देंहटाएं
  2. लोगों का पूर्वाग्रह है ये शायद .. हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  3. shi khaa koi kisi ki kyun fikr kre l;ekin agr hasy fuhaar pr koi nyi baat nhin ati to hme fikr jho jaati he ke agr hm hnse nhin to fir hmari bimaariyon ke ilaaj kaa kya hogaa. akkhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या कहने !
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हा हा ...लोंग गलत समझते हैं ..बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  6. हा हा हा ..........मैडम अगर खुबसूरत और जवां हो तो इस तरह के भाव आ ही जाते है!

    उत्तर देंहटाएं