समर्थक

बुधवार, 3 नवंबर 2010

नया चापरासी

आपको पिछले दिनों बताया था न कि एक ज़माने में फाटक बाबू बिज़नेस किया करते थे। और फिर उस

बिज़नेस का तगड़ा अनुभव! उन्हें हुआ था।

बात उन्हीं दिनों की है। उन्होंने अपने पार्टनर दोस्त को कम्पनी का मैनेजर रख लिया था ताकि उसका अनुभव काम आए। अपना दफ़्तर भी बनवा लिया उस प्रतिष्ठान में। एक नए चापरासी भी रख लिया।

उन्होंने नए नियुक्त किए गए चापरासी से कहा, “मैनेजर साहब ने तुम्हें बता दिया है ना कि तुम्हें क्या करना है?”

images (1) चापरासी ने प्रफुल्लित होकर कहा, “हां साहब! उन्होंने मुझे बता दिया है कि जब आपके आने की आवाज़ सुनूं, तो झटपट उन्हें जगा दूं!”

18 टिप्‍पणियां:

  1. आखिर ड्यूटी तो निभानी है

    उत्तर देंहटाएं
  2. ड्यूटी तो ड्यूटी है....'स्लीपिंग पार्टनर' के प्रति :))

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब:)

    हम सब की और से आप सब को दीपावली की शुभ कामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कर्त्तव्यपरायण मैनेजर द्वारा संभलाईगई सर्वाधिक महत्वपूर्ण ड्यूटी, शानदार । दीपावली की हार्दिक शुभकामनाओं सहित...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मज़ा आ गया। हर दफ़्तर में ऐसे कर्त्व्यनिष्ठ भरे पड़े हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है!
    राजभाषा हिन्दी पर – कविता में बिम्ब!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आजकल यही हाल है सर्वत्र...जागने वाले और कर्तव्य को ईमानदारी से निभाने वाले भूखे मर रहें हैं....इमानदार से ज्यादा काबिल आजकल चोर उचक्के हैं....तभी तो इस देश को भी चोर उचक्के ही चला रहे हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बड़ा ईमानदार चपरासी रखा है |

    उत्तर देंहटाएं

  9. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपको और आपके परिवार में सभी को दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ! !

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  10. हा हा! बहुत सटीक!



    सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल 'समीर'

    उत्तर देंहटाएं