समर्थक

सोमवार, 15 नवंबर 2010

दूसरा उदाहरण कोई नहीं

एक दिन गार्डेन में बैठा-बैठा खदेरन कुछ याद कर रहा था और मुस्कुरा रहा था। फाटक बाबू ने देखा तो पूछ लिया, “क्या बात है खदेरन? क्या याद आ गया?”

खदेरन बोला, “फाटक बाबू क्या बताएं, शादी के पहले की बात है।

फुलमतिया जी मुझे पसंद आ गईं थीं, तो चले गए उसके घर और फुलमतिया जी के पिता गेंदा सिंह को इंप्रेस करने के चक्कर में उनसे बोलना शुरु कर दिया,

सर जी, मेरे जैसा लड़का आप को चिराग लेकर ढूंढने पर नहीं मिलेगा। न तो मैं शराब पीता हूं, न ही अलब-कल्ब जाता हूं, दफ़्तर से भी सीधा घर आता हूं, आपकी बेटी मेरे साथ बहुत ख़ुश रहेगी।

तो जनते हैं फाटक बाबू फुलमतिया जी के पिता जी ने क्या कहा, उन्होंने कहा, सॉरी खदेरन बाबू, मैं अपनी बेटी की शादी आपसे नहीं कर सकता… अगर आपको दामाद बना लिया तो मेरी बीवी आपका उदाहरण दे-दे कर मेरा जीना मुश्किल कर देगी! हा-हा-हा….

10 टिप्‍पणियां:

  1. सही है सावधान तो रहना ही पड़ता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. पहले सुयोग्य 'दामाद' हो तभी बात बनेगी :))

    उत्तर देंहटाएं
  3. गेंदा सिंह की चिंता जायज़ थी। मज़ेदार।
    हा-हा-हा.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. हा हा ...फिर दामाद बिगड़ा या ससुर सुधरे ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही बात है अपने आस पास खुद से ज्यादा अच्छे लोगों को नहीं रखना चाहिए |

    उत्तर देंहटाएं
  6. ठीक है....ससुर जी तो दूरदृष्टि वाले निकले :)

    उत्तर देंहटाएं