समर्थक

बुधवार, 23 दिसंबर 2009

बेलन महिमा - 1

बेलन महिमा - 1



क्ल्ब की पार्टी से


देर रात गए जब दम्पत्ति घर पधारे,


इससे पहले कि बालम अपने जूते कपड़े उतारे,


श्रीमतीजी का प्रश्‍न आया,


तुमने मिसेज वर्मा की नई साड़ी देखी?”


श्रीमानजी ने कहा नहीं।



इनके इस उत्तर ने उनका दिल तोड़ा


फिर भी उन्होंने दूसरा प्रश्‍न छोड़ा,


अच्छा सच-सच कहना


मिसेज घोष ने जो पहन रखा था


लेटेस्ट डिजाइन वाला सोने का गहना ?


उस पर तो तुम्हारी नज़र गई होगी ?”



बलमजी अपनी याददाश्‍त को टटोले,


और बोले


नहीं।



दूल्हे के इस उत्तर पर कुछ भ्रमित और चकित


दुल्हन ने तीसरे प्रश्‍न का तीर छोड़ा


हूँ, पर मिसेज दास के


ख़ूबसूरत हीरों का नेकलेस तो ज़रूर देखा होगा?”


वर ने फिर कहा नहीं।




अब उनकी संगिनी के सब्र का बांध टूट चुका था,


पति का उत्तर सुनते ही पत्नी बिगड़ गई


मन ही मन सोची


किस बेवकूफ के पल्ले पड़ गई।




फिर बोली,


``तो क्या पार्टियों में तुम सिर्फ खाने-पीने के लिए ही जाते हो ?


गहने, जेवर और कपड़ों का


अच्छा-अच्छा आइडिया घर नहीं लाते हो।``


......अभी..... ज़ारी है ....


***********************************


अगर पसंद आया तो दिल खोलकर ठहाका लगाइगा


***********************************

9 टिप्‍पणियां:

  1. मस्त रही हास्य फुहार ...
    पर कहाँ रहा बेलन का वार ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. BELAN MEIN JO DHAR HONI CHAHIYE THI NAHI HAI ..LEKIN SAMBHAVNA UJWAL HAI .. KEEP ON

    उत्तर देंहटाएं