समर्थक

गुरुवार, 10 दिसंबर 2009

धर्मशाला

अगर पसंद आया तो दिल खोलकर ठहाका लगाइएगा।

मुन्ना भाई, "ए सर्किट ! बोले तो धर्मशाला किस खोपचे को बोलता हाइच ?

सर्किट, 'खोपचा नहीं भाई... वो पत्नी का भाई जैसा होता हाइच न साला... तो धर्मपत्नी के भाई को बरोबर बोलने का... धर्मशाला !!


********************************************************************
अगर पसंद आया तो ठहाके लगाइएगा
********************************************************************


3 टिप्‍पणियां: