समर्थक

शनिवार, 5 दिसंबर 2009

शेर की शादी

अगर पसंद आया तो दिल खोलकर ठहाका लगाइएगा।

शेर की शादी थी। हाथी, भालू, लोमड़ी, सब जानवर नाच रहे थे।

चूहा भी नाच रहा था।

सब जानवर एक एक कर थक कर किनारा पकड़ते जा रहे थे।

चूहा नाचे ही जा रहा था।

भालू ने कहा, “तू क्यों इतना नाच रहा है? और नाच नाच कर हमें थका रहा है।“

हाथी ने कहा, “तू अदना सा चूहा, शेर की शादी में तेरा क्या काम?”

चूहा जो अब तक सबकी सुन रहा था बोला, “अबे चुप रह। ऐसे मत बोल। मेरी कद काठी पे मत जा। शादी से पहले मैं भी शेर था। और इतना नाच रहा हूं इसलिए कि आज इस शेर का भी अखिरी दिन है। कल से यह भी चूहा हो जाएगा।“



********************************************************************
अगर पसंद आया तो ठहाके लगाइएगा
********************************************************************

7 टिप्‍पणियां: