समर्थक

रविवार, 27 दिसंबर 2009

बेलन महिमा -5

बेलन महिमा -5

…………………………………बेलन महिमा 4 के बाद

स्वामी की समझ में नहीं आ रहा था

कि क्या लफड़ा है

पूछेक्या बात है

क्यों तुम्हारा मूड सुबह-सुबह ही उखड़ा है


गृहस्वामिनी उन पर चिल्लाईं

चिरपरिचित अपना रौद्र रूप दिखलाईं

बोलीं, नींद में रात तुम बहुत बड़-बड़ कर रहे थे,

डर रहे थे, -

या कि मुझसे लड़ रहे थे।


अच्छा तो ये धमाल है

कांत के नींद में आए सपने का कमाल है।

तभी तो सुबह-सुबह उठा ये बवाल है।


ख़सम ने भी गुस्से में कहा,

बस बहुत सहा

ज़िन्दगी भर क्या यूँ ही सिर धुनता रहूँ

और सपने में भी

तुम्हारी ही सुनता रहूँ


जगे में तो बोलने का

मुँह खोलने का

अवसर ही कहां मिलता है।

......अभी..... ज़ारी है ....

***********************************

अगर पसंद आया तो ठहाका लगाइगा

***********************************

8 टिप्‍पणियां:

  1. subah kee shuruaat hee mazedar hui ab sara din hee lagata hai aise hee muskate nikal jaega.rhyme ke sath hasy maza aa gaya .

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा हा हा हा हा हा हा हा वाह बहुत खूब शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. Majedar .. Mujhe tho sari belan mahima aaj hi padne ka mann kar raha hai.Ha ha ha ha ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. जय हो बेलन की ........ क्या महिमा है .........

    उत्तर देंहटाएं
  5. ye to har ghar kee kahani hai... madam peeti hai subah subah chaay aur sahab bharte paani hai...

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रथम बार आपके ब्लॉग पर आकर बेलन दर्शन किये . मजा आ गया .
    किसी ने कहा है-
    हर पुरुष की
    सफलता में
    स्त्री का हाथ
    होता है ...
    जो नहीं कहा
    वो ये कि
    उसके हाथ में
    बेलन भी होता है !

    उत्तर देंहटाएं