समर्थक

सोमवार, 21 दिसंबर 2009

इतना दिमाग क्यूँ लगाना ?

एक लड़का था राहुल। राहुल अपने क्लास से निकला। बहोत भूखा था। पहुँचा कैंटीन में। जल्दी से एक पाव-भाजी का आर्डर दिया। सफ़ेद प्लेट में, तुरत पाव-भाजी हाजिर। उसने जैसे ही पाव उठाया, तो देखता है उसके नीचे प्लेट पर जन्नत लिखा हुआ था। अब आप बताइये, की राहुल के सर कौन हैं ?

समझे ?

अजी समझे ??

अजी अभी भी नही समझे ???

ओह्हो.... इसमें इतना दिमाग क्यूँ लगाना ? आपने शाहरुक खान वाली दिल से मूवी का गाना नही सुना क्या ? 'पाव के नीचे जन्नत होगी...... जिनके सर हो इश्क की छांव।' तो राहुल के सर हुए न.... इश्क की छांव
****************************************************************
अगर पसंद आया तो दिल खोलकर ठहाका लगाइएगा।
*******************************************************

8 टिप्‍पणियां: