समर्थक

रविवार, 5 सितंबर 2010

लॉंन्ग ड्राइव पर….!

:: हंसने से चिंता, दुख,गुस्से, चिड़चिड़ेपन,आदि से निज़ात मिलती है। ::

लॉंन्ग ड्राइव पर….!


फाटक बाबू ने एक सेकेण्ड हैंड क्या थर्ड या फ़ोर्थ हैंड कार ख़रीद ली। फिर चलाना भी सीख लिया। एक दिन बहुत मिन्नत-मनौत करके खंजन देवी को घुमाने ले गए।


सड़क पर दिशाहीन भटकते देख कर खंजन देवी ने फाटक बाबू से पूछ ही लिया, “ऐ जी! हम कहां जा रहे हैं?”


फाटक बाबू ने जवाब दिया, “लॉन्ग ड्राइव पर ….!”

 

खंजन देवी से रहा नहीं गया, शिकायत कीं, “पहले क्यों नहीं बताया…?”


फाटक बाबू ने समझाया, “मुझे भी अभी-अभी ही पता चला है, जब कार का ब्रेक फ़ेल हुआ है….!”

21 टिप्‍पणियां:

  1. हाहाहाहाहाहा अब तो भगवान ही बचाएगा....

    उत्तर देंहटाएं
  2. car pata nahi kab ruke raste ke lie khana to le liya hai na ha ha ha ha

    उत्तर देंहटाएं
  3. bechaare dono...badi lambi drive hogi unki ab..sach mein..ha ha ah ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह
    आपका ब्‍लॉग सच में जीवन जीने की कला सिखाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. इसलिए reservation के साथ साथ return ticket की भी व्यवस्था कर लेनी चाहिए !

    उत्तर देंहटाएं
  6. ha..ha....ha...ha...ha...ha...ha....aap bhi naa gazab hi karti hain...........

    उत्तर देंहटाएं
  7. हा हा हा ......... अगली बार लॉन्ग drive अगर मिया बोले तो संभाल के रहना पड़ेगा :-)

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह--वाह ----लांग ड्राइव और --ब्रेक फ़ेल-----मजा आ गया पढ़कर।

    उत्तर देंहटाएं