समर्थक

बुधवार, 29 सितंबर 2010

अहमियत

अहमियत

सुबह सुबह फटक बाबू और खंजन देवी नाश्ता के टेबुल पर बैठे नाश्ता कर रहे थे। तभी खंजन देवी ने कहा, “एक बात मैं शर्त लगा कर कह सकती हूं, कि आज का दिन आपको याद नहीं होगा।”

फाटक बाबू दफ़्तर जाने की हड़बड़ी में थे। नाश्ते के टेबुल पर तो कुछ नहीं बोले, पर दफ़्तर जाने से पहले थोड़ा नराज़ स्वर में बोलते गए, “बिल्कुल याद है!” और फाटक बाबू निकल गए।

खंजन देवी उनको जाते हुए देखती रही।

१० बजे कॉल बेल बजी। खंजन देवी ने दरवाजा खोला तो सामने दफ़्तर का चापरासी एक बुके खंजन देवी को थमा गया। बोला साहब ने भिजवाया है।

१२ बजे फिर कॉल बेल बजी। खंजन देवी ने दरवाजा खोला तो सामने दफ़्तर का चापरासी चौकलेट से भरा बक्सा खंजन देवी को थमा गया। बोला साहब ने भिजवाया है।

२ बजे फिर कॉल बेल बजी। खंजन देवी ने दरवाजा खोला तो सामने दफ़्तर का चापरासी बुटिक से डिजाइनर ड्रेस खंजन देवी को थमा गया। बोला साहब ने भिजवाया है।

image0044 खंजन देवी फाटक बाबू के दफ़्तर से आने की प्रतीक्षा आज बड़ी बेसब्री से कर रही थी। ६ बजे फिर कॉल बेल बजी। खंजन देवी ने दरवाजा खोला तो सामने फाटक बाबू थे। खंजन देवी बोलीं, “पहले पुष्प गुच्छ, फिर चौकलेट, फिर इतना सुंदर ड्रेस, मुझे पता नहीं था कि मेरी मम्मी का जन्मदिन आपके लिए इतनी अहमियत रखता है।”

28 टिप्‍पणियां:

  1. बेचारे फाटक बाबू :))
    बहुत ही बढ़िया एनिमेशन का प्रयोग किया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा हा!! फाटक बाबू कन्फ्यूजिया गये लगता है. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. फाटक बाबू को अब आगे से मुसीबत के वक़्त नानी की जगह सासु याद आएगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. हा हा हा फ़ाटक बाबू सुब्भानाल्लाह ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह , ब्लॉग की ये दो पंक्तियाँ बहुत पसंद आईं ..
    हास्यफुहार
    किताबे ग़म में ख़ुशी का ठिकाना ढ़ूंढ़ो, अगर जीना है तो हंसी का बहाना ढ़ूंढ़ो।

    उत्तर देंहटाएं
  6. हा हा !! फाटक बाबु की क्या बात है :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. हा हा हा ... क्या बात है ... बहुत अच्छा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. हा हा हा हा ! बहुत ही मज़ेदार लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सास त खुस होकर आधा जायदाद लिख दी होगी दमाद के नाम कि एही हमरा असली बेटा है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. हा हा हा हा हा हा………
    बढ़िया रहा
    मजेदार

    उत्तर देंहटाएं
  11. .
    .
    .
    हा हा हा हा,
    बेचारे खंजन बाबू !


    ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. kya baat hai..apka poora blog hi bhaut achche achche hasyo se bhara hua hai.

    maja a agya

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेचारा फाटक बाबू... मन मसोस कर रह गया होगा... हा हा हा हा हा हा ........ मज़ा आ गया...

    उत्तर देंहटाएं