समर्थक

गुरुवार, 2 सितंबर 2010

बुझावन के प्रश्‍न, बतावन का जवाब!-5

हंसना ज़रूरी है क्यूंकि …


हंसने से मस्तिस्क को ऑक्सीजन मिलता है।

बुझावन के प्रश्‍न, बतावन का जवाब!-5

बुझावान : ये बताइए कि कंप्यूटर और औरतों में क्या समानता है?

बतावन : जिस गूढ भाषा में एक, दूसरी से बात करती हैं, वह अन्य किसी के लिए अबोध्य होती है।

 

बुझावान : हूं! अच्छा ये बताइए कि कंप्यूटर और पुरुषों में क्या समानता है?

बतावन : आप जो कहते हैं, वो ये सुनते हैं, पर आपका जो तात्पर्य होता है, वह नहीं समझते।

22 टिप्‍पणियां:

  1. भई वाह..वाह. ऐसा विश्लेषण पहले नहीं देखा. मैं सोच में पड़ गया हूँ कि स्वयं को अब कौन सी श्रेणी में रख कर अपना बचाव करूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्त्रियों की गूढ़ भाषा समझना इतना आसान थोड़े ना है ...
    पुरुष बेचारे कुछ का कुछ अर्थ लगा ले...ये उनकी गलती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको एवं आपके परिवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  4. हा हा और ही ही..

    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदमी और औरत की सोच में भी कोई समानता दिखे तो बात बने !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को श्री कृष्ण जन्म की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं!
    http://manojiofs.blogspot.com/2010/09/33.html
    आंच (33) पर करण समस्तीपुरी की कविता “साँझ भई फिर जल गयी बाती”

    उत्तर देंहटाएं
  7. hahahahahaha achcha hai aur sahi hai ..........
    Happy Janmashtmi :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. :-)

    श्री कृष्ण जन्माष्ठमी की बहुत-बहुत बधाई, ढेरों शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  9. हा हा ....कंप्यूटर की गूढ़ भाषा तो फिर भी समझी जा सकती है..

    जन्माष्टमी की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छा!

    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये!

    उत्तर देंहटाएं
  11. janmaashtmi mubaarak ..

    aapko, fulmatiyaa ko, khaderan ko, bataawan/bujhaawan ko,


    aur haan.....priy faatak baabu ko bhi...

    :)

    उत्तर देंहटाएं