समर्थक

रविवार, 11 जुलाई 2010

मैं ऐसी लड़की नहीं हूँ!

मैं ऐसी लड़की नहीं हूँ!

बात उन दिनों की है जब खदेरन की फुलमतिया से शादी की बात पक्की हो चुकी थी।

 

खदेरन ने फुलमतिया से पूछा, “तुम शादी के बाद अपने लिए नया घर तो नहीं मांगोगी?”

फुलमतिया ने बड़ी मासूमियत से जवाब दिया, “नहीं, मैं ऐसी लड़की नहीं हूँ। तुम अपनी मां को नया घर दिला देना।”

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सीधी है बेचारी...हा हा!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा हा हा, मतलब खदेरन खरबूजे का कटना तो तय है.

    उत्तर देंहटाएं