समर्थक

बुधवार, 28 जुलाई 2010

ज़ुर्म

हंसना ज़रूरी है, क्योंकि …

हंसने से चिंता, दुख, गुस्से, चिड़चिड़ेपन, आदि से निज़ात मिलती है।

ज़ुर्म


जज न्याय सिंह ने कठघरे में खड़े मुज़रिम ढिबरी दास से पूछा, “पिछली बार भी तुम 500 रुपए चुराने के ज़ुर्म में पकड़े गए थे?”

मुज़रिम चोर ढिबरी दास ने कहा, “हुज़ूर! 500 रुपए से कितने दिन काम चलाया जा सकता है?”

22 टिप्‍पणियां:

  1. सच तो है...हा हा, जज साहेब भी समझते नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मंहगाई बढ़ रही है। जज साहब क्या जाने। आखिर पांच सौ रुपये से सिर्फ खाना ही चल सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही बात है भाई ... ५०० में तो आजकल एक दिन चलना मुश्किल है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हा हा बिल्कुल सही बात है. जज को भी समझना चाहिए कि इस महंगाई के ज़माने में पांच सौ से क्या होता है और फिर करोडो डकारने वाले सांसद और नेता तो बिल्कुल खुले ही घूम रहे है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. हा..हा..हा..मजेदार.
    ________________________
    'पाखी की दुनिया ' में बारिश और रेनकोट...Rain-Rain go away..

    उत्तर देंहटाएं
  7. sahi kaha 500 Rs. main bechara kab tak kaam chalayega .......

    उत्तर देंहटाएं
  8. sahi to kaha hai.... itni mahgaaee me 500 rupye me kitne din chalega... ha... ha... ha... ha... !

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह जी....

    सुन्दर चुटकुला...

    दीपक....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बढ़िया चुटकुला...आपके पात्रों के नाम बड़े मजेदार और सटीक होते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. हंसने-हंसाने का जो मुहिम आपने छेड़ा है...काबिलेतारीफ है

    उत्तर देंहटाएं
  12. jaj or chor bhi jante hai ki mahgaii kitani hai sarkar kab janegi

    उत्तर देंहटाएं
  13. मजेदार ! आपके ब्लॉग पर आकर मन प्रफुल्लित हो जाता है ,,,ठीक वैसे ही जैसे एक छींक आने से तबियत हरी हो जाती है ,,,,बहुत दिनों से ब्लॉग जगत से दूर रहा ,,,समय निकालकर पिछली रचनाये भी पढता हूँ ...;)

    उत्तर देंहटाएं