समर्थक

रविवार, 25 जुलाई 2010

मेहमान

हंसना ज़रूरी है, क्यूंकि …….


हंसने से ख़ून बढ़ता है।

मेहमान


फाटक बाबू उस दिन तफ़रीह के मूड में थे। पर सुबह-सुबह ही कॉल बेल बजी और जब दरवाज़ा खोला तो सामने देखा बिन बुलाए मेहमान हैं, वह भि स-परिवार। खंजन देवी के शहर से।

इस अचानक आए मुसीबतों (मेहमानों) का स्वागत करते हुए फाटक बाबू बोले, “आने से पहले फोन कर दिया होता।”

पधारे मेहमानों ने जवाब दिया, “अगर फोन कर देते, तो आप घर में कैसे मिलते!”


17 टिप्‍पणियां:

  1. लाख टके की बात कही भई। अगर घर पर नहीं मिलते तो कितना पैसा खर्च होता होटल में . है कि नहीं ......................हाहाहाहाहहाहा

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम भी यही आजमायेंगे. तभी कहूँ जिसे मै फोन करके जाता हूँ वो घर से बाहर क्यो होता है !!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हाँ आपको पहले से ही जानते थे, तभी फोन नहीं किया।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बड़े पहुंचे हुए होते है मेहमान! सब ताड़ लेते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरे, मेहमान तो भगवान् होते है और भगवान् कभी बता का नहीं आते ! ........................अच्छा है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमारीवाणी का लोगो अपने ब्लाग पर लगाकर अपनी पोस्ट हमारीवाणी पर तुरंत प्रदर्शित करें

    हमारीवाणी एक निश्चित समय के अंतराल पर ब्लाग की फीड के द्वारा पुरानी पोस्ट का नवीनीकरण तथा नई पोस्ट प्रदर्शित करता रहता है. परन्तु इस प्रक्रिया में कुछ समय लग सकता है. हमारीवाणी में आपका ब्लाग शामिल है तो आप स्वयं हमारीवाणी पर अपनी ब्लागपोस्ट तुरन्त प्रदर्शित कर सकते हैं.

    इसके लिये आपको नीचे दिए गए लिंक पर जा कर दिया गया कोड अपने ब्लॉग पर लगाना होगा. इसके उपरांत आपके ब्लॉग पर हमारीवाणी का लोगो दिखाई देने लगेगा, जैसे ही आप लोगो पर चटका (click) लगाएंगे, वैसे ही आपके ब्लॉग की फीड हमारीवाणी पर अपडेट हो जाएगी.


    कोड के लिए यंहा क्लिक करे

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह क्या बात है!!!!!!!!!!!!!!!!!!
    हा-हा-हा-हा...

    उत्तर देंहटाएं