समर्थक

शनिवार, 2 अक्तूबर 2010

एक विस्‍कुट

आज गांधी जयंती है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को शत-शत नमन!

एक विस्‍कुट

खदेरन फुलमतिया - Copy (2) फुलमतिया जी ने अपने बेटे भगावन से कहा, “भग्‍गू बेटे! फटाफट मुंह धो लो, … तो मैं तुम्‍हें एक विस्‍कुट दूँगी।”

भगावन ने कहा, “मम्‍मी! पूरा पैकेट ही दे दीजिए!…. मैं नहाने जाता हूँ।”

20 टिप्‍पणियां:

  1. सही है मुँह हाथ धोने पर एक तो नहाने पर पूरा क्यों नही?

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा,,हा,,हा, हा,
    बच्चे को बच्चा समझा है क्या :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. दो अक्टूबर को जन्मे,
    दो भारत भाग्य विधाता।
    लालबहादुर-गांधी जी से,
    था जन-गण का नाता।।
    इनके चरणों में श्रद्धा से,
    मेरा मस्तक झुक जाता।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भग्गू बेटा बहुत समझदार है ...पूरे पाकेट का हक है उसे ...!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बात तो सही है! जब मुँह धोने पर एक बिस्कुट देंगी तो फिर नहाने पर बहुत ही फायदा है! मज़ेदार!

    उत्तर देंहटाएं