समर्थक

शनिवार, 9 अक्तूबर 2010

जानवरों में लड़ाई

जानवरों में लड़ाई!

जंगल में एक चूहा बड़ी तेजी से भागा जा रहा था। खरगोश ने उसे इस तेजी से भागते देखा तो उसे रोक कर भागने का कारण पूछा।

चूहा ने बताया “अरे भीतर जंगल के जानवरों में लड़ाई हो गई है। हाथी को किसी ने थप्‍पड़ मार दिया है। सभी मुझपर शक कर रहे हैं।”

18 टिप्‍पणियां:

  1. शक की सुई..चूहे पर...मारो.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. नेगेटिव पब्लिसिटी का केस है, एकदम फिल्मी. मज़ेदार. :))

    उत्तर देंहटाएं
  3. मज़ेदार! बेचारा बुरा फ़ंसा!!
    हा-हा-हा.....

    बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
    नवरात्र के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    फ़ुरसत में …बूट पॉलिश!, करते देखिए, “मनोज” पर, मनोज कुमार को!

    उत्तर देंहटाएं
  4. या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता ! नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:!!

    नवरात्रि पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं...

    कृपया ग्राम चौपाल में आज पढ़े ------
    "चम्पेश्वर महादेव तथा महाप्रभु वल्लभाचार्य का प्राकट्य स्थल चंपारण"

    उत्तर देंहटाएं
  5. आहाहा मजा आया । क्या तो पिद्दी और क्या पिद्दी का...

    उत्तर देंहटाएं
  6. हा हा ...चूहे का आत्मविश्वास ...शक वो भी चूहे पर ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. शक के लपेटे में एक और मासूम..........

    उत्तर देंहटाएं
  8. हा हा हा.. बहुत खूब.. चूहे का आत्मविश्वास तो देखिये...

    मेरे ब्लॉग पर इस बार सुनहरी यादें ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. हा हा हा .. क्या मजा आ गया .. बेचारा भोला भाला चूहा

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक बार एक तोता एक आदमी की गाड़ी से जा टकराया . और टक्कर से मूर्छित हो कर गिर पड़ा ..आदमी को दया आई .. तोते को उठाया तोते पर दवाई लगाईं और देखभाल के लिए फिलवक्त पिंजरे में रख दिया .. थोड़ी देर में तोते को होश आया .. खुद को पिंजरे में पा कर बोला - अईला , मुझ से टक्कर हुवी- बेचारा आदमी - मारा गया और जेल मुझे हो गयी |

    उत्तर देंहटाएं