समर्थक

रविवार, 10 अक्तूबर 2010

तीन गो बुरबक! (थ्री इडियट्स!)-2

तीन गो बुरबक! (थ्री इडियट्स!)-2

हमरे गांव में भी तीन गो बुरबक है। उ का है कि जब से एगो फ़िलिम का हिट हुआ गांव के पराइमरी ईसकूल के गुरुजी अपना नाम वीर सिंह से भायरस कर लिहिन हैं और उनका चेला रामचन्नर से नाम बदल कर रैन्चो रख लिहिस आ दूसरा त रजुआ था ही।

2je8r6b_th त एक दिन किलास में भायरस गुरुजी पूछे, “एक ओवर में कितनी गेंद फेंकी जाती है, बोलो?”

त टप्प से रैंचोआ बोला, " छः!!”

भायरस गुरूजी अपरसन्न हुए और बोले, “गलत ! एक ओवर में एक ही गेंद छः बार फेंकी जाती है!!”

राजुआ मुंह खोले सब सुन रहा था। इसके पहिले कि रैंचोआ कुछ बोले टप से बोला, “बेटा काबिल बनो.... रटने से कुछ नहीं होगा !”

21 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कऊन गलत कहिस - गेंद तो एक ही होता है वही छ: बार फेका जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. तीनो बहरे तो नहीं थे .. एक बहरे मित्र ने दूसरे बहरे मित्र से पूझा , 'क्‍या तुम बाजार जा रहे हो ?'
    'नहीं मैं तो बाजार जा रहा हूं'
    'ओह मैंनें सोंचा कि तुम बाजार जा रहे हो'

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच्ची रटने से कुछ नहीं होता ...!

    उत्तर देंहटाएं
  5. ha ha ha...सहिये तो बोला वाइरस .....
    मेरे ब्लॉग पर इस बार.. सुनहरी यादें ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपमें ज़बरदस्त sense of humour है.आपके ब्लॉग पे प्रस्तुत हास्य से इस बात की पुष्टि होती है. wonderful.
    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें.

    कृपया मेरा ब्लॉग: kunwarkusumesh.blogspot.com देखें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. हाँ - एको गेंद था...........

    बुरबक भूजे नहीं.........

    उत्तर देंहटाएं
  8. ई भायरसवा सब जगह एके जईसा होता है हो ...हा हा हा बढिया बोला ....कुछ ब्लॉग्स को आपकी प्रस्तुतिकरण से सीखना चाहिए .......बहुत बहुत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  9. कल से बाहर था इसलिए इस पोस्ट को नही देख सका!
    --

    इस सार्थक हास्य के लि्ए साधुवाद!
    --
    नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --
    जय माता जी की!

    उत्तर देंहटाएं
  10. हा हा हा
    ये तो मैंने भी नहीं सोचा था

    उत्तर देंहटाएं
  11. तर्क को कुतर्क से मिलाएँ तो कुर्केट बनता है भायरस के गाँव में :))

    उत्तर देंहटाएं
  12. ये गेंद आखिर फेंक क्‍यों दी जाती है. चीजों को संभाल कर रखना चाहिए. फेंका-फांकी क्‍यों. जवाब के लिए लाल बुझक्‍कड़ जी से मशविरा किया जा रहा है.

    उत्तर देंहटाएं