समर्थक

सोमवार, 18 अक्तूबर 2010

पूत के पांव …

पूत के पांव …

images कहते हैं पूत के पांव पालने में ही दिखाई देते हैं। यहां वाकया उससे भी पहले का है। बात तब की है जब खदेरन और फूलमतिया जी का बेटा भगावन पैदा हुआ था। पैदा होते ही उसने नर्स से कहा, “मोबाइल फोन है आंटी आपके पास?”
नर्स थोड़ा अकचकाई। फिर भी उसने पूछ ही लिया, “क्यों? है तो, पर तू क्या करेगा?”
भगावन ने कहा, “भगवान को मिस कॉल करूंगा। उन्हें बताना है कि मैं पहुंच गया हूं!”

16 टिप्‍पणियां:

  1. भगवान को मिस कॉल करूंगा।
    ..............बहुत खूब, लाजबाब !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मिस्ड कॉल की महिमा बच्चा जानता है. पूत के पाँव.... :))

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा हा !!! लेकिन अगर नर्स के मोबाइल पर इंटरनेशनल कलिंग की सुविधा न हो तो फिर भगावन क्या करेगा ???

    उत्तर देंहटाएं
  4. भगावन ... द ... ग्रेट! सच तेरे पांव पालने में ही दिखाई देने लगे थे। मज़ेदार!
    हा-हा-हा....

    बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    बेटी .......प्यारी सी धुन

    उत्तर देंहटाएं
  5. maaf kijiye lekin sach kahoon, apne chutkulon ka star thoda upar karein...
    jinhone bahut achha , bahut khub aadi kaha hai kya unhein hansi bhi aayi yahi poochna chahunga....
    gustakhi maaf....

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस बार मेरे नए ब्लॉग पर हैं सुनहरी यादें...
    एक छोटा सा प्रयास है उम्मीद है आप जरूर बढ़ावा देंगे...
    कृपया जरूर आएँ...

    सुनहरी यादें ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. vah...bahut hi achha...aaj pahli baar yahan aaya hun...ab aata rahunga.

    उत्तर देंहटाएं